Tulsi Vivah 2021: आज तुलसी-शालिग्राम विवाह, इन मंत्रों का करें जाप

15 Nov, 2021
Nai dunia Tulsi Vivah 2021: आज तुलसी-शालिग्राम विवाह, इन मंत्रों का करें जाप

Tulsi Vivah 2021:

कार्तिक महिने में तुलसी पूजन का बहुत महत्व है। मान्यता के मुताबिक साल भर पूजा करने से जितना फल मिलता है, उससे बहुत ही ज्यादा फल कार्तिक महिने में पूजा-अर्चना करके मिलता है। शास्त्रों की मानें तो हर साल कार्तिक महिने में शुक्लपक्ष की एकादशी के दिन चातुर्मास के बाद भगवान विष्णु योगनिद्रा से उठते हैं। उसी दिन श्रीहरि स्वरूप शालिग्राम से तुलसी की शादी की जाती है। पौराणिक कथा के मुताबिक योगनिद्रा से उठने के बाद भगवान विष्णु सबसे पहले मां तुलसी की बात सुनते हैं। तुलसी विवाह के दिवस पूजा में मंगलाष्टक का पाठ करना शुभ माना जाता है। ऐसा करने से मां तुलसी की कृपा मिलती है। आइए जानते हैं कैसे करें भगवान शालिग्राम और तुलसी जी का विवाह।


इस दिन तुलसी के पौधे के गमले को फूलों से सजाइए। गमले के चारों ओर गन्ने लगाकर मंडप बनाइए। इतना करने के बाद तुलसी जी के यहां दिए मंत्र पढ़ें-


1. तुलसी के पूजा में इन मंत्रों का करें उच्चारण: (ॐ सुभद्राय नमः, ॐ सुप्रभाय नमः)

2. मातस्तुलसि गोविन्द हृदयानन्द कारिणी, नारायणस्य पूजार्थं चिनोमि त्वां नमोस्तुते

3. रोग से मुक्ति पाने का मंत्र (महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी, आधि व्याधि हरा नित्यं, तुलसी त्वं नमोस्तुते)

4. तुलसी जी की स्तुति करने का मंत्र (देवी त्वं निर्मिता पूर्वमर्चितासि मुनीश्वरैः, नमो नमस्ते तुलसी पापं हर हरिप्रिये)

 

अथ तुलसी मंगलाष्क का मंत्र

ॐ श्री मत्पंकजविष्टरो हरिहरौ, वायुमर्हेन्द्रोऽनलः। चन्द्रो भास्कर वित्तपाल वरुण, प्रताधिपादिग्रहाः ।

प्रद्यम्नो नलकूबरौ सुरगजः, चिन्तामणिः कौस्तुभः, स्वामी शक्तिधरश्च लांगलधरः, कुवर्न्तु वो मंगलम् ॥

गंगा गोमतिगोपतिगर्णपतिः, गोविन्दगोवधर्नौ, गीता गोमयगोरजौ गिरिसुता, गंगाधरो गौतमः ।

गायत्री गरुडो गदाधरगया, गम्भीरगोदावरी, गन्धवर्ग्रहगोपगोकुलधराः, कुवर्न्तु वो मंगलम् ॥

नेत्राणां त्रितयं महत्पशुपतेः अग्नेस्तु पादत्रयं, तत्तद्विष्णुपदत्रयं त्रिभुवने, ख्यातं च रामत्रयम् । गंगावाहपथत्रयं सुविमलं, वेदत्रयं ब्राह्मणम्, संध्यानां त्रितयं द्विजैरभिमतं, कुवर्न्तु वो मंगलम् ॥

बाल्मीकिः सनकः सनन्दनमुनिः व्यासोवसिष्ठो भृगुः, जाबालिजर्मदग्निरत्रिजनकौ, गर्गोऽ गिरा गौतमः ।

मान्धाता भरतो नृपश्च सगरो धन्यो दिलीपो नलः, पुण्यो धमर्सुतो ययातिनहुषौ, कुवर्न्तु वो मंगलम् ॥

गौरी श्रीकुलदेवता च सुभगा कद्रूसुपणार्शिवाः, सावित्री च सरस्वती च सुरभिः, सत्यव्रतारुन्धती ।

स्वाहा जाम्बवती च रुक्मभगिनी दुःस्वप्नविध्वंसिनी, वेला चाम्बुनिधेः समीनमकरा, कुवर्न्तु वो मंगलम् ॥

गंगा सिन्धु सरस्वती च यमुना गोदावरी नमर्दा कावेरी सरयू महेन्द्रतनया, चमर्ण्वती वेदिका ।

शिप्रा वेत्रवती महासुरनदी ख्याता च या गण्डकी, पूर्णाः पुण्यजलैः समुद्रसहिताः, कुवर्न्तु वो मंगलम् ॥

लक्ष्मीः कौस्तुभपारिजातकसुरा धन्वन्तरिश्चन्द्रमा, गावः कामदुघाः सुरेश्वरगजो, रम्भादिदेवांगनाः ।

अश्वः सप्तमुखः सुधा हरिधनुः शंखो विषं चाम्बुधे, रतनानीति चतुदर्श प्रतिदिनं, कुवर्न्तु वो मंगलम् ॥

ब्रह्मा वेदपतिः शिवः पशुपतिः सूयोर् ग्रहाणां पतिः, शुक्रो देवपतिनर्लो नरपतिः, स्कन्दश्च सेनापतिः ।

विष्णुयर्ज्ञपतियर्मः पितृपतिः तारापतिश्चन्द्रमा, इत्येते पतयस्सुपणर्सहिताः, कुवर्न्तु वो मंगलम् ॥


Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
BACK