International Women's Day पर Hamdard Safi करता है Anam Hashim को सलाम

08 Mar, 2021

डोर से बंधी पतंग उड़ती तो है, पर आजाद नहीं होती। लेकिन एक समय ऐसा भी आता है जब कटती है पतंग और आजादी की उड़ान से सजता है आसमान। बेफिक्र और बेखौफ होकर वह अपने सपनों को सच करती है। रिवाजों की बेड़ियों और कायदों की जंजीरों में कैद सपनों को बाहर निकालकर उसे सच करने वाली ही भारत की एकमात्र प्रोफेशनल स्ट्रीट बाइक फ्रीस्टाइल एथलीट  Anam Hashim बनती है। क्योंकि सच्चाई हो अंदर तो सपनों के आगे जमाने की कोई शर्त नहीं होती। International Women's Day पर Hamdard Safi अनम के संघर्ष और जुनून को सलाम करता है।

 

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
BACK